बजरी खनन पर सख्त हुआ पुलिस प्रशासन, बजरी से भरे 3 डंपर जब्त 

0
14

सुनील दवे, समदड़ी 

बाड़मेर टाइम्स नेटवर्क 

समदड़ी- सुप्रीम कोर्ट के बजरी खनन पर पूर्णतया रोक के बाद बजरी खनन माफियाओं की मौज देखने को मिल रही है। जहां एक तरफ कई कमठा मजदूर बेरोजगारी की मार झेल रहे हैं वहीं दूसरी तरफ खनन माफिया सुप्रीम कोर्ट के आदेशों की धज्जियां उड़ाते हुए अवैध तरीके से बजरी का खनन कर रहे है। जिससे राजस्व के नुकसान के साथ आमजन को भी भारी रकम चुकाकर जरूरत के हिसाब से बजरी खरीदनी पड़ रही है।

वहीं नए थाना अधिकारी धोलाराम माली ने इन खनन माफियाओं के खिलाफ मोर्चा खोल रखा है। एक के बाद एक लगातार खनन माफियाओं पर हो रही कार्यवाही से खनन माफियाओं में हड़कंप मचा हुआ है। रविवार रात्रि को थाना अधिकारी ने जाब्ते के साथ खनन माफियाओं पर शिकंजा कसते हुए बजरी से भरे हुए 3 डंपरों को जप्त किया। जप्त किए डंपरों को पुलिस थाने में लाकर खनन विभाग को सूचना दी। माइनिंग विभाग ने खनन माफियाओं पर कार्यवाई करते हुए तीनों डंपरों को अपने कब्जे में ले लिया। वही प्रकरण दर्ज कर मामले की जांच प्रारंभ कर दी।

थाना अधिकारी धोलाराम माली ने बताया कि देर रात को गश्त के दौरान सूचना मिली कि खेजडियाली के रास्ते अवैध बजरी खनन के टर्बो निकल रहे है। जिस पर थाना अधिकारी ने बगैर देर किए उच्च अधिकारियों के निर्देशानुसार खेजडियाली के पास पीछा करते हुए डंपरों को रुकवा कर अपने कब्जे में लिया।

खनन माफियाओं की निगरानी मे रहता है प्रशासन 

बजरी खनन पर पूर्णतया रोक के बाद खनन माफिया लूनी नदी में सक्रिय है। वही खनन माफिया प्रशासन पर हर तरह की नजर गाड़ी रखते हैं। जिसके चलते कार्यवाहीयो में दिक्कतें आ रही है। खनन माफियाओं के ऐस्कोर्ट करने वाले हर गली हर नुक्कड़ पर खड़े रहते हैं। जैसे ही प्रशासन की गाड़ी नजर आती है खनन माफियाओं को इनकी जानकारी पहले से दे दी जाती है। जिसके चलते खनन माफिया सतर्क हो जाते हैं और कार्यवाही से पहले ही खनन बंद कर वहाँ से फरार हो जाते हैं। वही माफियाओं के लोग प्रशासन के निकलते रास्तों पर भी नजर रखते हैं और अन्य रास्तों से डंपरों को पार करवा दिया जाता है, जिससे बड़ी कार्रवाई नहीं हो पाती।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here