ससुर ने डाला केरोसिन और पति ने लगाई आग, मरते-मरते विवाहिता ने दिए बयान 

0
15

अशोक दईया 

बाड़मेर टाइम्स ब्यूरो 

-विवाहिता ने पति व ससुर पर लगाए थे जिंदा जलाने के आरोप

-गंभीर हालत में चिकित्सकों ने किया जोधपुर रेफर, रास्ते मे तोड़ा दम

बाड़मेर- केंद्र व राज्य सरकार बेटी- बचाओ, बेटी-बचाओ के नारे बुलंद कर रही है और बेटियों की सुरक्षा के लिए महिला आयोग सहित विभिन्न कायदे कानून बनाए गए है। लेकिन, सरकार के दावे कहीं ना कहीं धूमिल होते नज़र आ रहें है। आजादी के 70 साल बाद भी देश की बेटियां अपने आपको असुरक्षित महसूस कर रही है और लगातार बेटियों पर अत्याचार की घटनाएं सामने आ रही है। जिन पर सरकार अंकुश लगाने मे असफल साबित हो रही है।

दरसअल, बाड़मेर जिले के रामसर थाना अंतर्गत सियानी गांव में एक ससुर और पति की हैवानियत भरी करतूत सामने आई। जिसमे उन्होंने विवाहिता को ज़िंदा जलाने की कोशिश की। झुलसी विवाहिता इस्मत पत्नी सुमार खां उम्र 19 वर्ष निवासी सियानी मुसलमान ने बताया कि उसका पति सुमार उसे पसंद नहीं करता है। जिसके चलते ससुर ने उस पर केरोसिन डाला वहीं उसके पति सुमार ने उसे आग लगा दी। विवाहिता ने कहा कि 1 महीने पूर्व में भी उसके पति द्वारा उसके साथ मारपीट की गई थी।

रेफर के दौरान विवाहिता ने तोड़ा दम 

झुलसी विवाहिता को बाड़मेर के राजकीय चिकित्सालय लाया गया। विवाहिता करीब 80 प्रतिशत झुलस चुकी थी। चिकित्सकों ने प्राथमिक उपचार के बाद जोधपुर रेफर कर दिया। रेफर के दौरान विवाहिता ने दम तोड़ दिया। जिसके शव को बाड़मेर अस्पताल की मोर्चरी में रखवाया गया है। पोस्टमार्टम के बाद शव मृतका के परिजनों को सुपुर्द किया जाएगा। सूत्रों के हवाले से ख़बर मिली है कि मृतका ने मरने से पूर्व दिए बयानों मे अपना शव पिता (पीहर पक्ष) को सौंपने की बात कही थी।

मजिस्ट्रेट ने लिया प्रसंज्ञान, पहुंचे अस्पताल

 

मामले की गंभीरता को देखते हुए सिविल न्यायाधीश एवं न्यायिक मजिस्ट्रेट सिद्धार्थ शंकर शर्मा राजकीय अस्पताल पहुंचे। जहां उन्होंने झुलसी विवाहिता के बयान लिए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here