ऑडिट के आधार पर होगा मोदी कैबिनेट में फेरबदल

200

नई दिल्ली। मोदी सरकार देश में अपने शासन के तीन साल पूरे कर चुकी है। ऐसे में माना जा रहा है कि सरकार के मंत्रिमंडल में अब तक का सबसे बड़ा फेरबदल होने वाला है। कल शाम को कई मंत्रियों ने इस्तीफे ने इस बात को और हवा दी है। बताया जा रहा है कि प्रधानमंत्री कार्यालय ने सभी मंत्रियों के कामकाज का ऑडिट किया था और सभी मंत्रियों का रिपोर्ट कार्ड तैयार किया गया था। इस रिपोर्ट में मंत्रालय से जुड़ी योजनाओं को लागू करने से लेकर पार्टी की जिम्मेदारियों का लेखा जोखा है। इस ऑडिट के आधार पर ही कैबिनेट फेरबदल का फैसला लिया जा रहा है। इस बार के फेरबदल में काफी नए चेहरे सामने आ सकते हैं। संभावना है कि परिवहन मंत्री नितिन गड़करी को रेलमंत्री बनाया जा सकता है। जबकि रेलमंत्री सुरेश प्रभु को पर्यावरण मंत्रालय सौंपा जा सकता है। आपको बता दें कि राजीव प्रताप रूडी, कलराज मिश्र, महेंद्र नाथ पांडेय ने अपने पद से इस्तीफे दे दिए हैं। मोदी मंत्रिमंडल में एक दो दिन में बडे बदलाव हो सकते हैं। माना जा रहा है कि रविवार तक मोदी मंत्रिमंडल में फेरबदल हो सकता है। वहीं कुछ मंत्रियों ने मोदी कैबिनेट से इस्तीफे दे दिए हैं और कुछ मंत्रियों ने अपने इस्तीफों की पेशकश की है। ज्ञातव्य है कि गुरुवार को केन्द्रीय मंत्री राजीव प्रताप रूडी और राज्य मंत्री फग्गन सिंह कुलस्ते ने इस्तीफे दे दिए हैं। वहीं उमा भारती और कलराज मिश्र और अन्य कुद मंत्रियों ने भी अपने इस्तीफे की पेशकश की है। ज्ञातव्य है कि पीएम मोदी कुछ मंत्रियों के कामकाज से खुश नहीं है। माना जा रहा है कि पीएम मोदी अब उन मंत्रियों को और वक्त नहीं देना चाहते जिनका कामकाज उनकी उम्मीद के मुताबिक नहीं रहा। वहीं कुछ नए लोगों को मोदी मंत्रिमंडल में जगह मिल सकती है।
इनकी हो सकती है छुट्टी
जलमंत्री उमा भारती, संजीव बालियान, फग्गन सिंह कुलस्ते और राजीव प्रताप रूडी की छुट्टी हो सकती है। यूपी से वरिष्ठ मंत्री कलराज मिश्र का भी हटना तय माना जा रहा है। कलराज मिश्र को किसी राज्य का गवर्नर बनाया जा सकता है। पीयूष गोयल, धर्मेंद्र प्रधान व प्रकाश जावड़ेकर का प्रमोशन हो सकता है।
देश को मिल सकता है रक्षामंत्री
पिछले काफी समय से देश के बाद कोई स्थाई रक्षामंत्री नहीं है। उम्मीद है कि देश को इस बार रक्षामंत्री मिल सकता है।
जेडीयू के दो मंत्रियों को मिल सकती है मोदी कैबिनेट में जगह!
मीडिया रिपोर्ट के अनुसार हाल ही में एनडीयू में शामिल हुई जेडीयू के दो मंत्रियों को मोदी कैबिनेट में जगह मिल सकती है। बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की पसंद के जेडीयू के 2 नेताओं को केंद्रीय मंत्रिपरिषद में जगह मिल सकती हैं। जेडीयू से राम चंद्र प्रसाद सिंह और पूर्णिया से सांसद संतोष कुशवाहा को मंत्री बनाए जाने की अटकले हैं।
इनको मिल सकती है बडी जिम्मेदारी
मोदी कैबिनेट में फेरबदल के दौरान कुछ लोगों का कद बढ सकता है। माना जा रहा है कि केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावडेकर, पीयूष गोयल और धर्मेंद्र प्रधान का मोदी कैबिनेट में और कद बढ सकता है। ज्ञातव्य है कि जावडेकर के पास फिलहाल मानव संसाधन मंत्रालय, धर्मेंद्र प्रधान के पास पेट्रोलियम मंत्रालय और पीयूष गोयल के पास ऊर्जा मंत्रालय का जिम्मा है। खबरों की मानें तो इन तीनों के काम से पीएम मोदी संतुष्ट हैं और इन्हें बड़ी जिम्मेदारी मिल सकती हैं। वहीं संसदीय कार्य मंत्री अनंत कुमार को शहरी विकास मंत्रालय दिए जाने की अटकलें हैं। पहले यह मंत्रालय वेंकैया नायडू के पास था, फिलहाल इसका अतिरिक्त प्रभार ग्रामीण विकास मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर के पास है। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार मोदी कैबिनेट में फेरबदल एक दो दिन में ही होने की संभावना है। गुरुवार शाम को पीएम मोदी ने पार्टी अध्यक्ष अमित शाह से मुलाकात की। माना जा रहा है कि यह मुलाकात मंत्रिपरिषद में तीसरे बडे फेरबदल को अंतिम रूप देने के उद्देश्य से हुई। ज्ञातव्य है कि पीएम मोदी को ब्रिक्स सम्मेलन में हिस्सा लेने चीन जाना है। वहीं राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद का भी राजधानी के बाहर कार्यक्रम है। पीएम मोदी रविवार को चीन रवाना होंगे। माना जा रहा है कि चीन दौरे पर जाने से पहले पीएम मोदी अपने कैबिनेट में फेरबदल कर सकते हैं। वहीं राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद शनिवार शाम को तिरुपति से लौटेंगे। इसके बाद वह रविवार को गुजरात के 2 दो दिवसीय यात्रा पर रवाना होंगे। 6 सितंबर से पितृपक्ष भी शुरू हो रहा है। ऐसे में अगर मोदी मंत्रिमंडल में रविवार से पहले फेरबदल नहीं हुए तो इसे पितृपक्ष के बाद तक टाला जा सकता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here