सतत विकास में जैव विविधता का महत्वपूर्ण योगदान

59

बाड़मेर टाइम्स ब्यूरो 

-तेल क्षेत्रों में जैव-विविधता पर जागरूकता कार्यक्रम    

बाड़मेर। विश्व भर में अंतर्राष्ट्रीय जैव-विविधता दिवस-2018 के साथ आरम्भ हुई जागरूकता गतिविधियों के तहत बाड़मेर स्थित तेल और गैस क्षेत्रों में विभिन्न कार्यक्रम आयोजित किए जा रहे हैं।

‘जैव-विविधता पर कार्य के 25 साल का उत्सव’ थीम के तहत अंतर्राष्ट्रीय जैव-विविधता दिवस समारोह जैव-विविधता की अहमियत और जैव-विविधता को खतरा को लेकर जागरूकता बढ़ाने का सुअवसर प्रदान करता है। समारोह से सतत विकास में जैव-विविधता का योगदान भी उजागर होता है।

जैव विविधता के मुद्दों की समझ और जागरूकता बढ़ाने के लिए संयुक्त राष्ट्र ने 22 मई को अंतर्राष्ट्रीय जैव विविधता दिवस  घोषित किया है। इस वर्ष, संयुक्त राष्ट्र जैव विविधता के अंतर्राष्ट्रीय दिन की 25 वीं वर्षगांठ मना रहा है। इस अवसर पर, वेदांत लिमिटेड केयर्न ऑयल एंड गैस ने “जैव विविधता और हमारे जीवन रक्षा के लिए इसके महत्व” पर व्याख्यान का आयोजन किया।

व्याख्यान बाड़मेर के जिला वन अधिकारी विक्रम केशरी प्रधान ने दिया। कार्यक्रम के आरम्भ में साइट प्रबंधन द्वारा केयर्न परिसर में अतिथियों का स्वागत किया गया। केयर्न के डीजीएम-पर्यावरण डॉ बी आर जाट ने स्वागत उदबोधन में केयर्न की तरफ से बाड़मेर में किए जारी पर्यावरण संरक्षण प्रयासों की जानकारी दी।

अपने उद्बोधन में डीएफओ ने जैव विविधता की अवधारणा, विलुप्त हो रही प्रजातियों और जैव विविधता संरक्षण प्रयासों के बारे में बताया। उन्होंने जैव विविधता और पारिस्थितिक संतुलन के संरक्षण में कॉर्पोरेट, समुदायों और व्यक्तियों की भूमिकाओं पर प्रकाश डाला। जैव-विविधता का संरक्षण अपना भविष्य सुरक्षित करने के लिए जरूरी है। भारत सदियों से अपनी समृद्ध जैव-विविधता का संरक्षण करता रहा है। उन्होंने कहा कि हम लोग वृक्षों, जानवरों और नदियों की पूजा करते रहे हैं, क्योंकि हम उनकी रक्षा करना चाहते हैं। यह समारोह हमें पारम्परिक तौर पर प्रकृति का संरक्षण करने के लिए अपनी जड़ों की ओर लौटने को प्रेरित करता है।

फील्ड मैनेजर-वेल पैड बरनी ने धन्यवाद ज्ञापित किया। आईएम, एमपीटी नटराजन, कंस्ट्रक्शन मैनेजर अभिजीत पाल और भानु प्रताप, प्रबंधक-सीएसआर इस आयोजन के दौरान उपस्थित थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here