Movie Review: रिस्की है सुंदर सुशील ‘A Gentleman’

143

बेहतरीन लोकेशन, हसीन चेहरे, सिक्स पैक एब्स, ढेर सारा एक्शन और फिल्म पर ढेर सारा पैसा खर्च करना… कभी-कभी यह सब मिलकर भी एक अच्छे प्रोडक्ट की गारंटी नहीं दे पाते और कुछ ऐसा ही हुआ है सिद्धार्थ मल्होत्रा और जैकलीन फर्नांडिस की फिल्म ‘ए जेंटलमैन: सुंदर सुशील रिस्की’ के साथ। फिल्म में हर वो चीज है जो किसी भी फिल्म को चलाने के लिए कारगर है, लेकिन अगर कुछ नहीं है तो वह है, मजबूत कहानी, दमदार परफॉर्मेंस और कुछ भी ऐसा जो फिल्म को यादगार बना सके। यानी बड़े बैनर और कमर्शियल फिल्म वाली लगभग हर बात इस फिल्म में मौजूद है, लेकिन फिर भी यह सारी चीजें मिलकर भी इसे एक ब्लॉकबस्टर नहीं बना पायी। हालांकि सिद्धार्थ और जैकलीन के फैन्स को इससे निराशा नहीं होगी।
कहानी में कितना दम
हर युवा कलाकार इन दिनों डबल रोल कर रहा है, चाहे वह अर्जुन कपूर हो या फिर वरुण धवन। ऐसे में सिद्धार्थ कैसे पीछे रह सकते हैं. उन्होंने भी दो तेवरों वाले किरदार निभाने की कोशिश की है एक गौरव है और दूसरा ऋषि। एक सीधा-सादा जीवन जीना चाहता है तो दूसरा थोड़ा रिस्की है। एक काव्या (जैकलीन) के साथ शांत जीवन जीना चाहता है तो दूसरा एक एजेंसी के लिए काम करता है। फिल्म का पहला हाफ मजेदार है और काफी हंसी-मजाक के साथ चलता है। गौरव और ऋषि के सच को समझना दिलचस्प है। सेकेंड हाफ में आकर फिल्म अपनी लय से भटक जाती है। काफी कुछ होता है, लेकिन आपस में कुछ भी कनेक्टेड नहीं हैं। ‘गो गोवा गॉन’ बनाने वाली डायरेक्टर जोड़ी का डायरेक्शन भी काफी कमजोर है। स्क्रिप्ट के मोर्चे पर भी फिल्म निराश करती है। फिल्म का एक्शन अच्छा है।
एक्टिंग के रिंग में
सिद्धार्थ मल्होत्रा को एक्टिंग के मोर्चे पर बहुत मेहनत करनी है क्योंकि कई शॉट्स में उनके एक्सप्रेशंस बहुत ही फ्लैट हो जाते हैं। अगर लुक की बात करें तो वे बाजी मार जाते हैं। उनकी पर्सनेलिटी कमाल की है और वे यूथ की जरूरतों को बखूबी पूरा भी करते हैं। उनसे थोड़े और की दरकार है। जैकलीन ने अच्छा साथ दिया है, डांस अच्छा है। वे परदे पर जानदार लगती हैं। एक्टिंग उनकी भी थोड़ी कच्ची है। फिल्म में सुनील शेट्टी भी हैं। वह कुछ इम्प्रेशन नहीं छोड़ते हैं। दर्शन कुमार की एनएच-10 की एक्टिंग ही दिमाग में घूमती है। ए जेंटलमैन में कुछ भी छाप छोडऩे वाला नहीं करते हैं।
और भी हैं बातें
फिल्म के गाने उस तरह का जादू नहीं बिखेर सके, जैसी उम्मीद थी। फिल्म में वे बहुत तंग करते हैं और ठूंसे हुए लगते हैं। जैकलीन के मूव्ज की वजह से झेले जा सकते हैं। फिल्म का बजट लगभग 40-45 करोड़ रु. बताया जाता है। बड़े बैनर की फिल्म है, और इसे हर जगह से सपोर्ट मिलना तय है। फिल्म से कोई बहुत बड़ी उम्मीद नहीं की जा सकती है। फिर ए जेंटलमैन को देखकर दिमाग में यही बात आती है कि सिद्धार्थ की एक्टिंग और काम कपूर एंड संस में ज्यादा बेहतर था। फिल्म यूथ ओरियंटेड बनाई गई है, ऐसे में अगर कई कमियों के बावजूद फिल्म यूथ से कनेक्ट कर लेती है तो यह घाटे में नहीं रहने वाली।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here