प्रवेश प्रक्रिया शुरू : कोई भी बालक-बालिका भाग लेकर कर सकते हैं अपनी दक्षता व कौशल का विकास

77

बाड़मेर टाइम्स ब्यूरो 

सिणधरी- राजस्थान राज्य भारत स्काउट व गाइड स्थानीय संघ सिणधरी के तत्वावधान में उपखण्ड मुख्यालय सिणधरी में 11 मई से 18 जून तक अभिरुचि प्रशिक्षण शिविर आयोजित होगा। प्रभारी सहायक जिला कमिश्नर व बीईईओ देवाराम चौधरी ने यह जानकारी देते हुए बताया कि शिविर का समय सुबह 7:30 से 12:00 बजे तक रहेगा। शिविर के लिए प्रवेश प्रक्रिया प्रारंभ हो चुकी है। स्काउट गाइड संगठन द्वारा सिणधरी में गत वर्ष सफल आयोजन के बाद इस वर्ष दूसरी बार फिर पहल की जा रही है जिसका उद्देश्य बालक बालिकाओं में श्रम के प्रति निष्ठा, आत्मविश्वास जागृत कर उन्हें स्वावलंबी बनाना एवं खाली समय के सदुपयोग करने के कौशल विकसित करना है। शिविर में विविध निर्धारित कौशलों का विकास दक्ष प्रशिक्षकों द्वारा किया जाएगा।

उन्होंने कस्बेवासियों से अधिकाधिक बालक बालिकाओं को शिविर में सम्मिलित करने का आह्वान भी किया। स्काउट गाइड स्थानीय संघ सचिव दूदाराम चौधरी के ने बताया कि प्रशिक्षण में 8 वर्ष से अधिक आयुवर्ग के लड़के-लड़कियां प्रवेश ले सकते है जिसमें लड़कियों के लिए कोई अधिकतम आयु की कोई निश्चित सीमा नही है। जबकि लड़को के लिए अधिकतम आयु 15 वर्ष होगी। संभागी को कोई भी दो विषय चयन करने होंगे जिसमें सिलाई, कढ़ाई, बुनाई, कैनवास, पेंटिंग व पाक कला, संगीत, नृत्य, कंप्यूटर शिक्षा, योग शिक्षा, ब्यूटीपार्लर आदि का प्रशिक्षण दिया जाएगा।

संघ कोषाध्यक्ष गोरधनराम चौधरी ने बताया कि शिविर के दौरान पर्यावरण व जल संरक्षण, स्वच्छता, नशा मुक्ति, यातायात व सड़क सुरक्षा नियम, गैस सुरक्षा, स्काउट गाइड पाठ्यक्रम की जानकारी, खेलकूद व भ्रमण, विभिन्न सांस्कृतिक कार्यक्रम, बालिका आत्मरक्षा प्रशिक्षण आदि के साथ-साथ जीवन उपयोगी वार्ताए आयोजित होंगी। सफलतापूर्वक शिविर करने वाले हर संभव जी को संगठन की ओर से जारी प्रमाण पत्र से नवाजा जाएगा। हॉबी शिविर में प्रवेश के लिए आवेदन पत्र 5 रुपए जमा करवाकर स्काउट स्थानीय मुख्यालय व प्रशिक्षण केंद्र से प्राप्त किए जा सकेंगे। शिविर में पंजीकरण शुल्क 100 रुपए निर्धारित किया गया है व कंप्यूटर शिक्षा आदि विशेष प्रशिक्षण विषय हेतु ₹200 अतिरिक्त देने होंगे। प्रशिक्षणार्थी कच्ची सामग्री तथा व्यवहारिक अभ्यास के लिए आवश्यक सामग्री साथ लाएंगे। प्रशिक्षण अवधि में भ्रमण की व्यवस्था उचित स्थानों पर की जाएगी जिसमें संभागी स्वेच्छा से सम्मिलित हो सकता है। अनुशासनहीनता बरतने पर प्रशिक्षण से मुक्त करने का अधिकार केंद्र संचालक व संगठन के पदाधिकारी को होगा। चौधरी ने कस्बेवासियों से अधिकाधिक बच्चों को प्रवेश दिलाने का आह्वान किया।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here