इस बार मोदी के जन्मदिन की बड़ी धूम

171

प्रधानमंत्री बनने के बाद नरेंद्र मोदी का चौथा जन्मदिन आ रहा है। इससे पहले के तीन जन्मदिन पर भी धूमधाम रही थी, लेकिन वैसा माहौल नहीं बना था, जैसा इस बार बनाया जा रहा है। इस बार 17 सितंबर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का जन्मदिन बड़े पैमाने पर मनाने की तैयारी चल रही है। इसका माहौल पिछले एक हफ्ते से चल रहा है। ऐसा नहीं है कि सिर्फ भारतीय जनता पार्टी की ओर से इसकी तैयारी चल रही है। सरकारी स्तर पर भी इसकी बड़ी तैयारी है। प्रधानमंत्री के चुनाव क्षेत्र वाराणसी में डेढ़ सौ के करीब सरकारी स्कूलों में प्रधानमंत्री का जन्मदिन मनाया जाएगा। देश के अलग अलग हिस्सों में कई किस्म के कार्यक्रमों का आयोजन हो रहा है। इससे पहले किसी प्रधानमंत्री के जन्मदिन की ऐसी तैयारी 1999 में दिखी थी, जब अटल बिहारी वाजपेयी प्रधानमंत्री थे और 75 साल के हो रहे थे। उनके करीबी सहयोगियों, पार्टी के नेताओं, सरकार के मंत्रियों और दूरदर्शन, आकाशवाणी सहित कई सरकारी संस्थानों ने बड़ी धूमधाम से उनका 75वां जन्मदिन मनाया था।

उसी से मिलती जुलती तैयारी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के 67 साल का होने के मौके की है। असल में इस तैयारी का सीधा मतलब राजनीति और चुनाव से जुड़ा है। इस साल प्रधानमंत्री के गृह राज्य गुजरात में विधानसभा का चुनाव है और पिछले डेढ़ दशक में यह पहला मौका है, जब मुख्यमंत्री के लिए नरेंद्र मोदी का चेहरा वहां नहीं होगा। तभी कहा जा रहा है कि इस बार उनके जन्मदिन को एक ग्रैंड उत्सव बनाया जा रहा है। वे खुद जन्मदिन से मौके पर गुजरात में होंगे। उससे ठीक पहले वे राज्य को बुलेट ट्रेन का तोहफा देंगे।

जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे के साथ प्रधानमंत्री मोदी 14 सितंबर को बुलेट ट्रेन परियोजना की नींव रखेंगे। इसके बाद गुजरात और देश के दूसरे हिस्सों में उनके जन्मदिन का समारोह शुरू होगा। गुजरात प्राइड का कार्ड फिर से भुनाने की तैयारी है। इसके लिए देश के अलग अलग हिस्सों में बड़े कार्यक्रम करके उसका संदेश गुजरात तक पहुंचाया जाएगा। भाजपा नेताओं का कहना है कि अगले साल भी ऐसी ही धूम रहेगी क्योंकि तब तक देश में लोकसभा चुनाव की तैयारी शुरू हो चुकी रहेगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here