मोदी की नई कैबिनेट में बढ़ सकता है राजस्थान का प्रतिनिधित्व

245

मोदी कैबिनेट का तीसरा मंत्रीमंडल फेरबदल रविवार को होने जा रहा है. इस फेरबदल में कई नए चेहरों को मौका मिलने की संभावना है. अभी राजस्थान से पांच राज्यमंत्री ही मोदी मंत्री परिषद में शामिल हैं, ऐसे में इस बार के फेरबदल में राजस्थान से एक केबिनेट मंत्री की एंट्री हो सकती है, जिसमें राज्यसभा सदस्य ओममाथुर और भूपेन्द्र यादव के अलावा कुछ चौंकाने वाले नाम भी मंत्रिमंडल में आ सकते हैं. उधर, मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे भी दिल्ली में बड़े नेताओं के लगातार संपर्क में हैं ताकि मोदी मंत्रिपरिषद में राजस्थान का दबदबा बढ़ सके और इसका फायदा राजस्थान के विधानसभा चुनाव में मिल सके. साल 2019 में होने वाले लोकसभा चुनाव और उससे पहले देश के विभिन्न राज्यों में होने वाले विधानसभा चुनावों को सत्तासीन बीजेपी ने अभी से ही तैयारियां शुरू कर दी हैं. इन्हीं को ध्यान में रखकर मोदी मंत्रिपरिषद का फेरबदल रविवार को होने जा रहा है. रविवार सुबह 10 बजे राष्ट्रपति भवन में नए मंत्रियों को शपथ दिलाई जाएगी. इस फेरबदल को लेकर राजस्थान में भी राजनीतिक हलचल तेज हो गई है. प्रदेश से मौजूदा मंत्रिपरिषद से किसका नाम हटेगा और किसे मंत्री पद से नवाजा जाएगा इसे लेकर अटकलें तेज हो गई हैं. राजस्थान से फिलहाल मोदी मंत्रिपरिषद में पांच सदस्य शामिल हैं, जिनमें जयपुर ग्रामीण सांसद राज्यवर्धनसिंह राठौड़, बीकानेर सांसद अर्जुनराम मेघवाल, पाली सांसद पीपी चौधरी, नागौर सांसद सीआर चौधरी और राज्यसभा सदस्य विजय गोयल शामिल हैं. चूंकि राजस्थान से राज्यसभा सांसद वैकया नायडू के उपराष्ट्रपति पद पर नियुक्त होने के बाद एक मंत्री पद राजस्थान के खाते से रिक्त चल रहा है, ऐसे में यह सम्भावना बढ़ जाती है कि मोदी केबिनेट में एक पद तो राजस्थान के खाते में आने वाला है. राजस्थान में अगले साल के अन्त में विधानसभा चुनाव होने हैं, ऐसे में राजस्थान का प्रतिनिधित्व कास्ट फैक्टर, रीजन फैक्टर समेत अन्य वरीयताओं को ध्यान में रखकर मोदी और अमित शाह की जोड़ी निर्णय करेगी. वहीं राजस्थान से मंत्री परिषद में शामिल होने वाले सांसदों के नामों पर मुख्यमंत्री से भी सलाह ली जा सकती है. राजस्थान से पांच नामों की चर्चाए जोरों पर है, जिनमें राज्यसभा सांसद ओमप्रकाश माथुर और भूपेन्द्र यादव, लोक सभा सांसद ओम बिड़ला, सीपी जोशी और अर्जुन लाल मीणा मुख्य हैं. मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे भी लगातार दो दिनों से दिल्ली में डेरा डाले हुए हैं. इस दौरान राजे भाजपा के वरिष्ठ नेताओं के साथ लगातार संपर्क में हैं ताकि इस फेरबदल में एक कैबिनेट और राज्यमंत्री का पद राजस्थान के खाते में आ सके.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here